ब्रेकिंग न्यूज़

 ‘वैक्सीन पासपोर्ट' पर अंतरराष्ट्रीय चर्चा में ‘टीका समानता' पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए : भारत
नयी दिल्ली ।भारत ने बृहस्पतिवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिए ‘वैक्सीन पासपोर्ट' पर जारी वैश्विक चर्चा को टीका समानता के मुद्दे से जोड़े जाने की आवश्यकता है क्योंकि अनेक विकासशील देश अपनी आबादी के बड़े हिस्से का कोविड रोधी टीकाकरण नहीं कर पाए हैं। यह बात भारत ने जापान की इस घोषणा के बाद कही कि वह जापानी लोगों के लिए अगले महीने से ‘वैक्सीन पासपोर्ट' उपलब्ध कराएगा। जापान के निर्णय, इससे संबंधित जटिलताओं के बारे में, तथा यह पूछे जाने पर कि क्या भारत भी इस तरह के पासपोर्ट जारी करेगा, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि उनके पास भारत के ‘वैक्सीन पासपोर्ट' जारी करने संबंधी कोई सूचना उपलब्ध नहीं है। उन्होंने कहा कि ‘‘तथाकथित वैक्सीन पासपोर्ट'' के मुद्दे पर वैश्विक चर्चा जारी है और भारत को लगता है कि इसे टीका समानता के बड़े मुद्दे से जोड़ा जाना चाहिए क्योंकि अनेक विकासशील देश अपनी आबादी के एक बड़े हिस्से का कोविड रोधी टीकारण नहीं कर पाए हैं। बागची ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम वैक्सीन पासपोर्ट के मुद्दे पर टीका समानता पर अधिक ध्यान देने के साथ चर्चा चाहेंगे।'' सरकार ने पिछले महीने कहा था कि कोविड रोधी पूर्ण टीकाकरण करा चुके लोगों को अंतरराष्ट्रीय यात्रा की अनुमति देने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन को ‘वैक्सीन पासपोर्ट' जारी करने के मुद्दे पर अभी सहमति पर पहुंचना है। इसने उल्लेख किया था कि अभी चर्चा चल रही है।
बाहर से आने वाले छात्रों के लिए कुछ विश्वविद्यालयों के विशिष्ट टीकों पर जोर देने के मुद्दे पर बागची ने कहा कि जरूरतों में एकरूपता नहीं है। उन्होंने कहा कि अमेरिका सरकार स्पष्ट कर चुकी है कि भारतीय छात्रों के लिए टीकाकरण अनिवार्य शर्त नहीं है। बागची ने कहा, ‘‘मैं भी समझता हूं कि हमारे छात्रों और विश्वविद्यालयों के बीच विभिन्न चर्चाएं चल रही हैं। स्पष्ट तौर पर हम अपने छात्रों का समर्थन करेंगे। मेरा मानना है कि संबद्ध प्रत्येक व्यक्ति की यह सुनिश्चित करने में रुचि है कि छात्र विश्वविद्यालयों तक पहुंचने में सक्षम हों और अपनी नियमित कक्षाएं लें तथा हम कोई रचनात्मक समाधान निकलने की उम्मीद करते हैं।'' अमेरिका द्वारा टीका आपूर्ति का वायदा किए जाने के बारे में पूछे जाने पर बागची ने कहा कि समयसीमा और अमेरिका द्वारा घोषित टीकों की मात्रा के संबंध में आगे के ब्योरे की प्रतीक्षा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए सूचीबद्ध करने के मुद्दे पर बागची ने कहा कि भारत घटनाक्रमों पर करीब से नजर रखे हुए है और प्रक्रिया के जल्द से जल्द पूरा होने की उम्मीद है। बागची ने कहा, ‘‘विवरण के लिए कंपनी से पूछिए।''
सरकार द्वारा गठित टीका समिति से संबंधित एक सवाल के जवाब में बागची ने कहा कि इसका गठन नीति आयोग के तहत हुआ है और इसके बारे में विवरण के लिए आयोग से संपर्क किया जाना चाहिए।

Related Post

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).