ब्रेकिंग न्यूज़

 मौसमी बीमारियों, गैस और कब्ज की समस्या से  छुटकारा दिलाता है गिलोय... ऐसे करे इस्तेमाल
 मौसम बदलने की आहट से सर्दी, जुकाम, खांसी, वायरल फीवर, मलेरिया आदि अन्य मौसमी बीमारियों का खतरा भी बढ़ गया है। इसके अलावा जो लोग अस्थमा के मरीज हैं, उनको भी इस मौसम में सजग हो जाने की जरूरत होती है क्योंकि जैसे-जैसे सर्दी बढ़ती है, अस्थमा के मरीजों के लिए भी काफी मुश्किलें बढ़ जाती हैं । 
इन सब परेशानियों के बीच गिलोय का सेवन काफी लाभकारी साबित हो सकता है।  कैल्शियम, प्रोटीन, फॉस्फोरस भरपूर गिलोय एक ऐसी जड़ीबूटी है, जिसे आयुर्वेद में संजीवनी बूटी माना जाता है। ये व्यक्ति की इम्युनिटी बूस्ट करने के साथ तमाम बीमारियों से बचाती है  यहां जानिए गिलोय के फायदे और इसको इस्तेमाल करने का तरीका.....
कब्ज और गैस की समस्या दूर करे
 गिलोय का काढ़ा कब्ज और गैस की समस्या से भी निजात दिलाने में मददगार है। पीलिया के रोगियों के लिए भी गिलोय काफी फायदेमंद माना जाता है।  उन्हें इसके पत्तों का रस पीने से काफी आराम मिलता है। 
बेस्ट इम्युनिटी बूस्टर
गिलोय को बहुत ही अच्छा इम्युनिटी बूस्टर माना जाता है ।  वायरस से होने वाली बीमारियों और मौसमी बीमारियों से बचाने में गिलोय का काढ़ा काफी फायदेमंद साबित होता है।  इसे रोजाना पीने से सर्दी-जुकाम जैसी समस्याओं से भी राहत मिलती है। 
अस्थमा के लिए वरदान
गिलोय में भारी मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं, इसलिए ये अस्थमा और सांस की अन्य समस्याओं को नियंत्रित करने में काफी कारगर माना जाता है।  गिलोय का नियमित सेवन करने से फेफड़े साफ होते हैं और कफ का जमाव नहीं हो पाता। 
रक्त शोधक है गिलोय
एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर गिलोय को रक्तशोधक माना जाता है।  ये शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने का काम करता है और खून को साफ करता है। इसके रेग्युलर सेवन से स्किन से जुड़ी परेशानियों में भी फायदा होता है। 
 डेंगू के मरीजों के लिए लाभकारी
डेंगू के दौरान मरीज को रोजाना गिलोय का काढ़ा बनाकर देना चाहिए। इसके सेवन से शरीर में खून की कमी नहीं होती है और प्लेटलेट्स भी तेजी से बढ़ती है और बुखार नियंत्रित होता है।
ऐसे बनाएं गिलोय का काढ़ा
सबसे पहले गिलोय के डंठल को तोड़ लें। इसे धोकर कूट लें और एक गिलास पानी में डालें। इसके साथ तुलसी की पत्तियां, काली मिर्च, थोड़ी अदरक और चुटकीभर हल्दी डालें। इसके बाद पानी को उबलने दें। पानी आधा रहने पर छान लें और गर्मागर्म पीएं। आप चाहें तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं। 
---------

Related Post

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).