ब्रेकिंग न्यूज़

 सीबीएसई ने कक्षा 12वीं के नतीजों से संबंधित मूल्यांकन का मापदंड   उच्चतम न्यायालय को सौंपा
नई दिल्ली।  केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड-सीबीएसई ने आज उच्चतम न्यायालय को सौंपने के लिए 12 वीं के छात्रों के मूल्यांकन मानदंड के बारे में अपनी रिपोर्ट जारी की। 12 वीं की बोर्ड परीक्षा का परिणाम 30-30 प्रतिशत 10वीं और 11वीं कक्षा के प्रदर्शन के आधार पर और 12वीं के घटक 40 प्रतिशत पर आधारित होगा।
 महामारी के बीच सीबीएसई और सीआईएससीई की कक्षा 12वीं की परीक्षा रद्द करने के निर्देश की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस ए.एम. खानविलकर और दिनेश माहेश्वरी की पीठ को अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने बताया कि सीबीएसई के छात्र जो मूल्यांकन फॉर्मूले से संतुष्ट नहीं हैं, उन्हें महामारी की स्थिति समान होने पर कक्षा 12वीं की परीक्षा देने का अवसर दिया जाएगा।
 उच्चतम न्यायालय ने हाल ही में कक्षा 12 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में एक याचिका पर सुनवाई करते हुए बोर्ड को दो सप्ताह के भीतर रणनीति तैयार करने का निर्देश दिया था। सीबीएसई ने मूल्यांकन मानदंडों को अंतिम रूप देने के लिए 12 सदस्यीय समिति का गठन किया था।
 

Related Post

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).