ब्रेकिंग न्यूज़

  100 साल से जिसे समझा जा रहा था पुजारी, वह निकली गर्भवती महिला की ममी! क्या खास था इस ममी में....
 मिस्र में पाई जाने वाली ममी अपने अंदर कई राज समेटे होती हैं। कई बार धीरे-धीरे इनके रहस्यों से पर्दा उठता है। ऐसा ही कुछ पोलैंड के वैज्ञानिकों को मिला जब उन्होंने पाया कि जिस ममी को एक पुजारी  का माना जा रहा था, वह दरअसल एक गर्भवती महिला की थी। वॉरसॉ ममी प्रॉजेक्ट के तहत अपनी तरह की पहली खोज करने वाले इन वैज्ञानिकों की हैरानी का ठिकाना नहीं रहा। यह टीम 2015 से प्राचीन मिस्र की ममीज पर काम कर रही है। स्कैन में जब ममी के पेट के अंदर एक छोटा सा पैर दिखा, तब उन्हें समझ आया कि उनके हाथ क्या लगा है।
 यूनिवर्सिटी ऑफ वॉरसॉ के पुरातत्वविद मार्जेना ओजारेक-जील्क और उनके सहयोगी इस रिसर्च को पब्लिश करने की तैयारी में हैं। उन्होंने स्टेट न्यूज एजेंसी सीएनएन को बताया है, 'अपने पति स्टैनिसलॉ के साथ हमने तस्वीरें देखों और उसके पेट में एक छोटा सा पैर देखा।' प्रॉजेक्ट के सह-संस्थापक वोहटेक एमंड ने  बताया कि ममी को 1826 में पोलैंड लाया गया था। तब माना जा रहा था कि यह एक महिला की है , लेकिन 1920 के दशक में इस पर मिस्र के पुजारी का नाम लिखा पाया गया।
 रिसर्च के दौरान कंप्यूटर टोमोग्राफी की मदद से बिना उसकी पट्टियां खोले पुष्टि की गई कि यह एक महिला की ममी थी क्योंकि इसमें पुरुषों का प्राइवेट पार्ट नहीं था। 3डी इमेजिंग में लंबे-घुंघराले बाल और स्तनों की पुष्टि की गई। उन्होंने बताया कि महिला की जब मौत हुई तब वह 20 से 30 साल की रही होगी और भ्रूण 26-30 हफ्तों का। उसकी मौत कैसे हुई यह अभी नहीं पता चला है और यह जानने के लिए और जांच की जरूरत होगी।
 एक्सपट्र्स के सामने एक बड़ी पहेली यह है कि आखिर अब तक महिला के अंदर भ्रूण कैसे रह गया? ममी बनाने के लिए मृतक के अंगों को निकाल दिया जाता था तो भ्रूण को क्यों नहीं निकाला गया। माना जा रहा है कि इसके पीछे कोई धार्मिक कारण हो सकता है। एमंड ने संभावना जताई है कि हो सकता है उन्हें लगता हो कि अजन्मे बच्चे की आत्मा नहीं होती है और वह अगले दुनिया में सुरक्षित रहेगा या हो सकता है कि उसे निकालने में महिला के शरीर को नुकसान का खतरा रहा हो।
 यह भी सवाल है कि आखिर ममी के ऊपर पुजारी का नाम क्यों लिखा था। इसके जवाब में संभावना जताई गई है कि शायद पादरी के ताबूत को चोरी कर महिला की ममी को उसमें रखा गया हो। ऐसा करने के कई मामले पहले सामने आए हैं। अमीर और प्रतिष्ठित लोगों के ताबूतों में मूल्यवान चीजें भी होती थीं और उनकी चोरी भी की जाती थी। ताबूत को दोबारा इस्तेमाल करने के लिए भी चोरी कर लिया जाता था। एमंड के मुताबिक करीब 10 प्रतिशत ममी गलत ताबूत में होती हैं। 

Related Post

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).