ब्रेकिंग न्यूज़

एस्ट्राजेनेका टीके की तीसरी खुराक ओमीक्रोन के खिलाफ प्रभावी: अध्ययन
लंदन। एस्ट्राजेनेका वैक्सजेवरिया टीके की तीसरी बूस्टर खुराक के बाद कोविड-19 के ओमीक्रोन स्वरूप के खिलाफ एंटीबॉडी बढऩे की बात सामने आई है। एंग्लो-स्वीडिश बायोफार्म कंपनी ने गुरुवार को जारी अपने प्रारंभिक आंकड़ों में यह बात कही। 
ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित और भारत में कोविशील्ड के तौर पर लगाए जा रहे टीके के जारी परीक्षण में पता चला है कि इसकी तीसरी खुराक से सार्स-सीओवी2 के बीटा, डेल्टा, अल्फा और गामा स्वरूपों के प्रति शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता में इजाफा हुआ। परीक्षण के नमूनों का अलग से विश्लेषण करने पर ओमीक्रोन स्वरूप के खिलाफ भी एंटीबॉडी तेजी से बनने की बात सामने आई। वैक्सजेवरिया या कोई एमआरएनए टीका लगवा चुके लोगों में परिणामों का अध्ययन किया गया। एस्ट्राजेनेका में बायोफार्मास्यूटिकल्स आरएंडडी के कार्यकारी उपाध्यक्ष सर एम पैंगोलाज ने कहा, ''वैक्सजेवरिया ने दुनियाभर में लाखों लोगों को कोविड-19 से बचाया है और ये आंकड़े दिखाते हैं कि तीसरी बूस्टर खुराक के तौर पर इसकी महत्वपूर्ण भूमिका है। तब भी, जब इसे अन्य टीकों के बाद दिया गया हो।'' कंपनी ने कहा कि वह तीसरी अतिरिक्त खुराक की तात्कालिक जरूरत को देखते हुए इन अतिरिक्त आंकड़ों को दुनियाभर के स्वास्थ्य अधिकारियों को प्रदान कर रही है। 'द लांसेट' के साथ प्रिप्रिंट में आये चौथे चरण के परीक्षण के परिणाम दिखाते हैं कि कोरोनावैक (सिनोवैक बायोटेक) के प्रारंभिक टीकों के बाद वैक्सजेवरिया की तीसरी खुराक से एंटीबॉडी में तेजी से वृद्धि देखी गयी। 

Related Post

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).